Trademark Registration क्या है और क्यों जरुरी है ?

What is a Trademark?

ट्रेडमार्क वह चिह्न है जो किसी कंपनी को एक अद्वितीय ब्रांड या पहचान  प्रदान करता है और यह प्रतियोगियों से आपको सुरक्षित रखने में मद्दद करता  है। एक ट्रेडमार्क नाम, लोगो, ध्वनि या ग्राफिक हो सकता है जो किसी भी व्यवसाय या संगठन का प्रतिनिधित्व करता है।

What is a Trademark Registration?

यह  सरकार द्वारा संचालित एक प्रोसेस है जिससे आप अपनी संगठन का logo,graphic,quote या आवाज़ को पेटेंट करवा सकते है। भारत सरकार उन कंपनियों और संगठन को लाभ और योजनाएं देती है जो कानूनी तरीके से कारोबार करते हैं।ट्रेडमार्क का उपयोग करके ब्रांड नाम सुरक्षित किए जा रहे हैं क्योंकि किसी को भी किसी भी संगठन के ट्रेडमार्क की प्रतिलिपि बनाने का अधिकार नहीं है। लोग ब्रांड उत्पादों को पसंद करते हैं और उन ब्रांडों को खरीदना पसंद करते हैं जो लोकप्रिय हैं।

ट्रेडमार्क पंजीकरण को ब्रांड पंजीकरण या ब्रांड नाम पंजीकरण भी कहा जाता है। ब्रांड जागरूकता कंपनी के लोगो यानी ट्रेडमार्क के माध्यम से बनाई गई है। बिक्री की मात्रा बढ़ जाती है क्योंकि यह उपभोक्ताओं को दिए गए उत्पाद को याद रखने में मदद करता है। ट्रेडमार्क ब्रांड प्रतिष्ठा को बढ़ाता है और दिए गए संगठन की दक्षता का प्रतिनिधित्व करता है।


Why Trademark registration is important?

व्यवसाय के नाम और लोगो की नकल नहीं की जानी चाहिए और अगर कोई कंपनी नाम लोगो या कंपनी की किसी भी इकाई की प्रतिलिपि बनाती है तो मालिक कंपनी नाम और लोगो की नकल करने के लिए कंपनी पर मुकदमा कर सकती है।

कंपनी का लोगो कंपनी के ब्रांड का प्रतिनिधित्व करता है और और ये मार्केटिंग का एक महत्तपूर्ण हिस्सा होता है।   यदि आपके पास आपकी कंपनी के ट्रेडमार्क के रूप में एक ध्वनि है, तो इसे आसानी से लोगों द्वारा याद किया जा सकता है। उसके कारण, माउथ टू माउथ मार्केटिंग हो सकता है और आपके उत्पाद को दर्शकों की नज़र में एक लोकप्रिय ब्रांड बनने का मौका मिलता है।

जैसा कि उत्पाद की बिक्री हर व्यवसाय के लिए आवश्यक होती है, वे अपने लोगो(LOGO) को अपने प्रतिस्पर्धियों से विशेष बनाने के लिए उत्पादों पर अपना लोगो लगाते हैं और उनसे अलग खड़े होते हैं। जैसा कि लोगो या ट्रेडमार्क उपभोक्ताओं को कंपनी के उत्पादों को याद रखने में मदद करता है, जिससे लोग उत्पादों की खरीद करते हैं और बिक्री में वृद्धि होती है।

ट्रेडमार्क के रूप में ध्वनि एक बेहतर प्रभाव पैदा करती है जब आप अपने ब्रांड का विज्ञापन करते हैं और लोगों से परिचय करते हैं, लोग खरीदारी करते समय इसे याद रखते हैं और वे उत्पादों को लेते हैं और लोग हमारे उत्पादों से अधिक परिचित हो जाते हैं।

How to do trademark registration?

ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन आप घर बैठे आसानी से ऑनलाइन कर सकते है।आप चाहे तो कोई लीगल एजेंट का भी सलाह या मद्दद ले सकते है। यह वेबसाइट http://www.ipindia.nic.in/ से आप ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन कर पाएंगे। 

ट्रेडमार्क भारत सरकार से पंजीकृत है और कई सलाहकारों ने प्रक्रिया को आसान बना दिया है ताकि कोई भी व्यवसाय भारत में मौजूद ट्रेडमार्क सलाहकार निकायों के साथ ट्रेडमार्क पंजीकरण आसानी से ऑनलाइन प्राप्त कर सके।

Trademark Registration fees

ट्रेडमार्क पंजीकरण के लिए सरकारी शुल्क 9000 रु कंपनी के लिए प्रति क्लास  प्रति आवेदन लगता है। व्यक्तिगत ट्रेडमार्क पंजीकरणके लिए प्रति वर्ग 4500 रु प्रति आवेदनखर्चा आता है।  आपके जितने क्लास के  प्रोडक्ट्स रहेंगे उन सभी क्लास  के लिए आपको अलग अलग अप्लीकेशन जमा करना होगा। 

What are the documents required for Trademark registration?

ब्यक्तिगत या अगर आपका  Proprietorship farm है तो आपको निचे दिए गए documents की आबस्यक्ता होगी 

  • Identitity Proof
  • Business address proof
  • Trademark name or logo soft copy
  • MSME/GST certificate if any
यदि आपका कंपनी partnership या Pvt Ltd के अंतर्गत आता है तो आपको निचे दिए गए documents की जरुरत पड़ेगी 
  • Incorporation certificate
  • Identity proof of directors
  • Trademark name or logo soft copy
  • MSME registration certificate

जैसा कि ट्रेडमार्क के कई लाभ हैं और उत्पादों का एक अनोखा  ब्रांड अस्तित्व बनाता है, प्रत्येक व्यवसाय को किसी व्यवसाय को वैध बनाने के लिए ट्रेडमार्क पंजीकरण के लिए आवेदन करना चाहिए। ट्रेडमार्क पंजीकरण के बाद, कोई भी आपकी कंपनी के लोगो या आपकी कंपनी की आवाज़ की नकल नहीं कर सकता है जो आपकी कंपनी का प्रतिनिधित्व करता है।

छोटे पैमाने पर व्यावसायिक विचारों के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहां पढ़ें।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने